“प्रतिभाओं को मत काटो , आरक्षण की तलवार से…

www.whatsapptrollingjokes.com

"करती हूं अनुरोध आज मैं , भारत की सरकार से ,"
"प्रतिभाओं को मत काटो , आरक्षण की तलवार से………"
"वर्ना रेल पटरियों पर जो , फैला आज तमाशा है ,"
"जाट आन्दोलन से फैली , चारो ओर निराशा है………"
"अगला कदम पंजाबी बैठेंगे , महाविकट हडताल पर ,"
"महाराष्ट में प्रबल मराठा , चढ़ जाएंगे भाल पर………"
"राजपूत भी मचल उठेंगे , भुजबल के हथियार से ,"
"प्रतिभाओं को मत काटो , आरक्षण की तलवार से………"
"निर्धन ब्राम्हण वंश एक , दिन परशुराम बन जाएगा ,"
"अपने ही घर के दीपक से , अपना घर जल जाएगा…….."
"भडक उठा गृह युध्द अगर , भूकम्प भयानक आएगा ,"
"आरक्षण वादी नेताओं का , सर्वस्व मिटाके जायेगा…….."
"अभी सम्भल जाओ मित्रों , इस स्वार्थ भरे व्यापार से ,"
"प्रतिभाओं को मत काटो , आरक्षण की तलवार से…….."
"जातिवाद की नही , समस्या मात्र गरीबी वाद है ,"
"जो सवर्ण है पर गरीब है , उनका क्या अपराध है………"
"कुचले दबे लोग जिनके , घर मे न चूल्हा जलता है ,"
"भूखा बच्चा जिस कुटिया में , लोरी खाकर पलता है…….."
"समय आ गया है उनका , उत्थान कीजिये प्यार से ,"
"प्रतिभाओं को मत काटो , आरक्षण की तलवार से………"
"जाति गरीबी की कोई भी , नही मित्रवर होती है ,"
"वह अधिकारी है जिसके घर , भूखी मुनिया सोती है…….."
"भूखे माता-पिता , दवाई बिना तडपते रहते है ,"
"जातिवाद के कारण , कितने लोग वेदना सहते है………"
"उन्हे न वंचित करो मित्र , संरक्षण के अधिकार से ,"
"प्रतिभाओं को मत काटो , आरक्षण की तलवार से………"

By : निकिता अखिलेश शकुंतला पांडेय

Whatsapp Jokes | Rajnikanth Jokes | Husband-Wife Jokes | Political Jokes  | Sanskari Jokes  | Inspiring Stories | Shayaris  | Photos

Only For +18 : Click here 

Related posts:

Leave a Reply