धड़कनें तुम्हारी जब शोर करें 

धड़कनें तुम्हारी जब शोर करें
नब्ज़ तुम्हारी तेज़ चले
दुनियाँ भर की चीज़ों से जब
कैसे भी तुम्हारा मन न भरे
तब आईने के बैठ सामने
ख़ुद से तुम बातें करना
जैसे चहक-चहक बतलाती हो मुझसे
समझ खुद को मुझ ,मुझसे तुम बातें करना
रूपांतरित तुम हो जाना
रूप मेरा तुम धर लेना
शब्द-बद्ध हो मेरी तरह
तैयार तुम ख़ुद को कर लेना
देखना अपने ही नयनों में
जैसे तुमको देख रहा हूँ मैं
जो भी तुम पढ़ना चाहती हो
देखो भेज रहा हूँ मैं
देखो ये है बिंदिया छोटी सी
पर बड़ी ही गौरवशाली है
नयनों के कज़रारे काज़ल की
छटा भी मतवाली है
अपनी सुर्खी से कह रही जो
उस लाली की बात निराली है
गाल गुलाबी करने वाले प्रेम की
हर अदा ही बलशाली है
देखो सौंदर्य तुम्हारा शब्दों से
कैसे मैंने बढ़ाया है
अर्थ भी उनका व्याख्यायित कर
सरल तुम्हें समझाया है
मेहंदी से रचे हाथों में तुम्हारे
मैंने खुद को भी लिखवाया है
अब तुम अनुभव करो सत्य है ये
या सिर्फ ये कोई छाया है
धड़कनें जब शोर करें
नब्ज़ तुम्हारी तेज़ चले
दुनियाँ भर की चीज़ों से जब
कैसे भी तुम्हारा मन न भरे
तब आईने के बैठ सामने
ख़ुद से तुम बातें करना
जैसे चहक-चहक बतलाती हो मुझसे
समझ खुद को मुझ ,मुझसे तुम बातें करना

Leave a Reply